Thursday, 30 May 2019

मधुशाला Part 2-by Deepak bansal


मदिरा का वास्तविक अर्थ इससे पढने से पूर्व मधुशाला का पहला भाग पढ़िए!

1.मुझसे ना पूछ पता मंदिर या मस्जिद का,में मदिरालय में रहता हूं!
मुझसे ना पूछ पता सत्य का में सत्य के पास रहता हूं!
मुझसे ना पूछ पता ईश्वर या खुदा का, मैं स्वायम खुदा बन जाता हूं!
मै पीता हूं साहेब में पीता हूं !पीने के बाद ना जाने क्या क्या बन जाता हूं!
                                      

YE BHI PDIYE
MADHUSALA PART 1



No comments:

Post a comment