Thursday, 28 May 2020

ISHQ GAZAL SHAYARI

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...

ISHQ GAZAL SHAYARI


AAP LOGO KE LIYE YHA ISHQ GAZAL SHAYARI,GAZAL,ISHQ GAZAL LYRICS,PYAR GAZAL,ISHQ GAZAL STATUS,BEHTREEN GAJAL,HINDI GAZAL SANGRAH,GAZAL URDU IN HINDI ETC. LEKAR AAYA HUN.








देवता क़ैद परिंदे सा लगा,
जब क़फ़स देख के मंदिर देखा।।

रोहिताश "क़फ़स"

ISHQ GAZAL SHAYARI
EK GARIB BCHE KI HANSI

DEVTA KAID PARINDE SA LGA,
JB KAFAS DEKH KE MANDIR DEKHA!

ग़ज़ल/gazal-
---------
तेरी आँखों में समंदर देखा।।
---------
खूबसूरत वो बहुत है, लेकिन,
शख़्स इक और भी सुंदर देखा।।
---------
अब जनाज़ा-ए-सिकंदर देखा ।।
---------
मैंने देखा जो पसे आईना,
एक ख़ुद में भी कलंदर देखा ।।
---------
फिर मदारी न वो बंदर देखा ।।
---------
देवता क़ैद परिंदे सा लगा,
---------

©रोहिताश"क़फ़स"
______________________________________
Rohitaash rathore
---------------------------------------------------------------
कलंदर =sufi saint//मंदर=temple// क़फ़स=cage
---------------------------------------------------------------

ISHQ GAZAL SHAYARI
MIRZA GHALIB




KHWAB EK KHWAB KE ANDAR DEKHA,
TERI AAKHO ME SAMNDAR DEKHA!

KHUBSURAT WO, BHUT HAI LEKIN,
SAKHS EK OR BHI SUNDAR DEKHA!

AB JANAJA-AE-SIKANDAR DEKHA!

MENE DEKHA JO PASE AAINA
EK KHUD ME BHI KALANDAR DEKHA!

FIR MADARI NE WO BANDAR DEKHA!

DEVTA KAID PARINDE SA LGA,
JB "KAFAS" DEKH KE MANDAR DEKHA!





ग़ज़ल/gazal
--------
रूह ने जब, उतार दी चादर।।
--------
आसमाँ ओढ सो रहा हूँ मैं,
क्या कफ़न क्या मज़ार की चादर।।
--------
मैंने यादों कि फिर बुनी चादर।।
--------
दायरा तोड़ के यही पाया,
पैर फैले तो कम पड़ी चादर।।
--------
पाँव नीचे दबी रही चादर।।
--------
इल्म समझो कबीर का ये "क़फ़स"
जैसी आई वही गई चादर।।
--------
©क़फ़स
--------------------------------------------------------------
Rohitaash rathore

ISHQ GAZAL SHAYARI
YAAD SHAYARI

JISM NIKLA LIBAS SI CHADAR,
RUH NE JB UTAR DI CHADAR!

KYA KAFAN KYA MJAR KI CHADAR!

EK KHAT EK FOOL KO LEKAR,
MENE YAADO KI FIR BUNI CHADAR!

DAYRA TOD KE YHI PAYA,
PER FELE TO KAM PDI CHADAR!

PAV NICHE DABI RHI CHADAR!

ILAM SAMJHO KABIR KA YE "KAFAS"
JESI AAI WHI GAYI CHADAR!


ये भी पढ़िए :BAJIGAR LOG YA BEVKUF LOG




#GAZAL HINDI SAD #BEST GAZAL LINE #GAZAL IN HINDI OF LOVE #GAZALE #HINDI GAZAL STATUS #2 LINES GAZAL IN HINDI #GAZAL ON KHUSI #PYARI GAZAL #ISHQ SHAYARI IN HINDI FONT #PYAR GHAZAL #ISHQ IN HINDI #ISHQ SHAYARI IN HINDI FONT #HUMSAFAR GHAZAL IN HINDI

FOR VIDEO: GAZAL

Tuesday, 26 May 2020

कोरोना पर राजनीती का दंश

Shayar ki Kalam se dil ke Arman... 

कोरोना पर राजनीती का दंश 


कोरोना पर राजनीती  का दंश
राजनीती 



सभी पाठकों को मेरा यानि दीपक बंसल का सादर नमन आप सभी  लोगो के सहयोग का मैं आभारी हूँ ! आपके द्वारा दिए जाने वाले प्रोत्साहन की वजह से में अपनी बात सबके सामने रख पा रहा हूँ !

आज के मेरे इस आर्टिकल का शीर्षक हमारे देश की वर्तमान िस्ठति पर आधारित है ! एक और सम्पूर्ण विश्व कोरोना से झूझ रहा है ! वही हमारा देश कोरोना से छोड़ो राजीनीति की गंदी बिसातों से झूझ रहा है ! हमारे नेताओ को कोई फर्क नहीं पड़ता ! की समय क्या चल रहा है ! इन्हे सिर्फ एक दूसरे के ऊपर लांछन लगाने है ! इस कार्य में कोई भी पार्टी  पीछे नहीं है ! चाहे बीजेपी हो कांग्रेस हो या कोई और दल ! सबको सिर्फ अपने स्वार्थ की पड़ी है ! कोई भी अपनी जिम्मेदारी को पूर्ण रूप से मानने को तैयार नहीं है ! बस एक दूसरे पर ढोलने में लगे हुए है ! 

सर्वप्रथम हम राज्य स्तर की बात करे ,तो  एक और सरकारी दावों में कहने को तो इन्होंने इतना खाना बाट दिया की जैसे पुरे प्रदेश को इन्होने खिला दिया हो ! कहने को quarantine सेंटर में बहुत ही अच्छा खाना पानी की बॉटल दे रहे है ! पर वास्तिविकता आप कभी इन सेंटर में रहने वालो से पता कीजिये ! पानी की बॉटल मजाक है इनके हिसाब से खाना भी quarantine व्यक्ति के घर वाले देके जा रहे है ! तो ये कौन बताएगा ! की वहाँ जो पैसा लग रहा है ! वो वास्तिविकता में जा कहा रहा है ! किनकी जेबे भारी हो रही है !

ये लोग खाने खर्च  इतना  अधिक  दिखा रहे है  जबकि जिन्हे मिल रहा है उनसे पूछिए ! खिचड़ी भी ढंग से मिल जाये तो बड़ी बात है स्कूल जैसी जगहों पर जहाँ खाना बन रहा था ! वहा इतना कम और इतना लोअर केटेगरी का खाना मिलता था  !लोग  वहा जाके अपने को ठगा सा महसूस करते है ! 

हम लोगो ने और समस्त व्यक्तियों ने जिन्होंने भी सरकार को डोनेशन दिया ! वो किस लिए शायद इनकी जेबे भरने को ! जब भी  आपदा आती है ! समस्त लोग एक दूसरे की मदद करने को आगे आते है ! और वास्तविकता में भी उन्हीं लोगो ने आज इस विपदा में लोगो को भूखे मरने से बचाया है ! सरकारों ने एक बार फिर साबित किया की आपदा हमारे लिए अवसर है जेबे भरने का ! और यहाँ सिर्फ एक राज्य की बात नहीं है ! ये देश के काफी राज्यों में हुआ है ! 

और एक बात समझ नहीं आती ऐसे समय में भी विपक्ष सरकारों के साथ क्यों नहीं होता ! ये समय राजनीती का नहीं है ! कभी कभी मानवता इन सबसे ऊपर होनी चाइये ! पर हमारे देश में ऐसा नहीं है ! आपने सुना किसी और देश में इस तरह के आरोप प्रत्यारोप! वहां  सिर्फ कोरोना से लड़ा जा रहा है ! हमारे राज्य में बीजेपी कांग्रेस की टांग खींच रही है ! सेंट्रल में प्रियंका जी मोदी जी की !क्रेडिट मिल जाये ! चाहे कुछ भी करना पड़े! 1000 बसे बोलके चाहे बाइक भेज दे ! ये किस तरह की मूर्खता है !

कोरोना पर राजनीती  का दंश
कोरोना लाइव 


ये भी पढ़िए : JATIGAT RAJNITI PAR KATASH



इस लाइन में सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बीजेपी के नेता भी कम नहीं है ! एक तो मोदी भक्ति इतनी है की सही गलत का फैसला लेना ही भूल गए हम ! और सच भी है ! हम वो जनता है जो हमेशा से भेड़ चाल चलते आये है ! सही को सही और गलत को गलत कहने का साहस हममें है ही नहीं ! जिसकी तरफ झुकाव रखते है उसका सही गलत सब भूल जाते है !

 चलिए मैं गिनवाता हूँ गलतिया ! हमारे देश में महामारी ने दस्तक फ़रवरी में ही दे दी थी ! उसके बाद भी हमारे देश के प्रधान नायक ने २२ मार्च को मध्यप्रदेश में सरकार गिरवा दी ! क्या ये समय राजनीती का था ! ऐसे समय में न केवल मध्यप्रदेश उसके साथ साथ राजस्थान प्रदेश  प्रभावित हुआ ! जब देश और प्रदेश को कोरोना पर ध्यान लगाना था ! तब देश के  दो बड़े प्रदेशो को प्रभावित किया हमारे प्रधान सेवक ने ! जब लोगो को घरो में रहने का सन्देश दिया जा रहा था ! तब मध्य प्रदेश में ज्योतिआदित्यराव  सिंधिया जी रैली कर रहे थे ! बीजेपी में शामिल होने की खुशी में ! लेकिन तब भी किसी ने मोदीजी के खिलाफ कुछ नहीं कहा ! क्या ये सही फैसला था ! राजनैतिक उठा पटक चलती रहती है ! मगर महामारी के समय में, ये कैसी राजनीती है ! लोगो की आपको जरा सी भी परवाह नहीं रही ! सरकार बनाते  ही अगले दिन से पूरा देशबंद  ! इतना ही जब देश का ख्याल था तो ये सरकार गिराने का निर्णय कैसे ले लिया आपने ! 

और तो और  lockdown करने की इतनी जल्दी थी की ये बोलना ही भूल गए की हमारे जो रोज कमा के खाने वाले है ! उनके खाने की व्यवस्था सरकार करेगी ! इस बात के न कहने का परिणाम तो आप सबके सामने है ही ! कुछ दिन बाद आके आपने माफ़ी मांग ली पर उससे क्या हालात बदल पाए ! आज बसें ट्रैन भर भर कर अपने घर जा रही है ! जब जाना था ! तब जा नहीं पाए अब जब रुकना है तो भेजा जा रहा है ! सब निर्णय आज उलटे पड़ रहे है पर हमारी बिकी हुई मीडिया सिर्फ मोदी मोदी करती रहेगी ! इतने स्वतंत्र हो तो हर पहलु के बारे में बताओ !

सबसे नया तो २० लाख करोड़ का पैकेज है ! वो ऐसा लॉलीपॉप है ! जो सबको सिर्फ दिख रहा है खा कोई भी नहीं सकता !

वैसे मोदी जी देश के लिए काफी कुछ अच्छा भी करते है ! पर उनके अच्छे काम को तो पहले  ही  मीडिया २४*७  चीला चीला के बताता ही रहता है ! तो हम वो बताये जो वो नहीं बता रहे !

ये हमारे देश की विडम्बना  है ! की हम एक ऐसे देश में रहते है जहा राजनेता सिर्फ और सिर्फ अपना स्वार्थ देख रहे है ! उसी स्वार्थ का परिणाम है  राजस्थान प्रदेश में ३  दिन पूर्व विष्णु दत्त विशनोई एक ईमानदार पुलिस अफसर इनके स्वार्थ की भेट चढ़ गया ! 

मैं कभी किसी पार्टी का समर्थक नहीं हूँ ! मैं  सही को सही और गलत को गलत कहने का साहस दिखा रहा हूँ !
लोग अभी भी मुझे गलत कहेंगे ! पर यही सच है हम सब भेड़ है और हमे हाकने वाले ये राजनेता ! बस यही गुजारिश है ! आप लोग मीडिया की नहीं तथ्यों पर विचार करे !

ये भी पढ़िए :CORONA COVID 19 YA ZOMBIES




#20 LAKH CRORE PACKAGE  #1000 BUSES # PRIYANKA GANDHI # BJP # CONGRESS #UTAR PRADESH #RAJNITI #MADHAY PRADESH #RAJSTHAN

FOR VIDEO: SHIV RAJ SINGH CHOUHAN



Saturday, 23 May 2020

BAJIGAR LOG YA BEVKUF LOG

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...


BAJIGAR LOG YA BEVKUF LOG 

दुकानदार  

एक तो आज कल पूरी दुनिया को कोरोना ने नचा रखा है ! सरकार मीडिया चिल्ला चिल्ला कर कह रही है ! मास्क लगाओ, SANITIZER लगाओ, सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन करो ! दुकानदारों मास्क के साथ साथ ग्लव्स भी पहनो ! पर साला किसी को घंटा फर्क नहीं पड़ रहा ! किराने की दुकानों पे जाओ सोशल डिस्टेंसिंग वो क्या होती है भैया ! किसी को पता ही नहीं ! बस जल्दी है सिर्फ सामान मिल जाये ! अरे दिमाग़ से पैदल  लोगो सामान तब इस्तेमाल करोगे न जब कोरोना से बचोगे ! और तो और इनको कोई कुछ बोल दो तो मौत से डरते हो क्या ! नहीं भाई हम तो बाजीगर है ! जान को हथेली पे रखते है ! भाई हमे तो डर लगता है ! और तुझे शोक है तू मर तेरे चकर में सब मरे ये कहा की समझदारी है ! चलो ये तो रहे बाजीगर लोग दूसरे है हमारे दुकानदार भाई ! एक भाई ग्लव्स नहीं पहनता सरकार तो पागल है ! जो नियम बनाती है ! हम क्यों माने ! हमें थोड़ी होगा ! जिसको होगा वो भुक्ते ! अरे भाई तू दिन भर लोगो को कोरोना का! सॉरी सॉरी किराना का सामान बाँट रहा है ! थोड़ी सी सावधानी रख लेगा तो क्या चला जायगा ! पर नहीं हम क्यों करे ! 
BAJIGAR LOG YA BEVKUF LOG
बेवकूफ 



सब्जीमंडी 

और बची कूची सब्जी मंडियों में देख लो वहा जाके ऐसा लगता है जैसे सब नार्मल है ! कोई महामारी जैसी चीज है ही नहीं धरती पे ! वही धक्का मुकि वही भीड़ ! जैसे तो कोरोना ने स्पेशल परमिशन दी है भैया मैं मंडियों में आने वाले किसी भी महानुभाव को टच तक नहीं करूँगा ! भाइयो सरकार ने मंडियों को परमिशन दी है आपके मित्र कोरोना ने नहीं ! अब कोरोना को मित्र ही बोलना पड़ेगा ना ! जब इतना टची जो हो रहे है ! इतना टच तो मित्र से ही होते है !

ये भी पढ़िए :CORONA COVID19 YA ZOMBIESES

ठेके  


 और तो और हमारे देश के विकास के चौथे स्तम्भ का तो क्या कहना ! वैसे तो आप समझ गए होंगे फिर भी बता देते है ! शराब ! शराब ही तो वो आखरी हतियार है जो अब सरकार को पैसा दे सकती है ! और हुआ भी वही ठेके खुलते ही लोग कोरोना भूल ऐसे टूट  पड़े शराब की दुकानों पे जैसे अमृत बट रहा है यही कोरोना से जीत दिला सकता है  ! वहा लोग सोशल डिस्टैन्सिंग छोड़ो मारा  पीटी पर उतर आये ! साला घर में खाने का राशन नहीं ! पर दारू पूरी चाइये ! राशन का क्या है ! राशन तो फ्री में मिल ही रहा है ना ! हमें तो देश के चहुमुखी विकास में योगदान देना है ! हम नहीं खरीदेंगे तो देश का विकास कैसे होगा ! और ये ठेके वो जगह थी! जहाँ हर क्लास के लोग सब भूल कर लाइन में धक्का मुकि कर रहे थे ! आखिर देश के विकास में योगदान देने वाले कोरोना वारियर्स (शराबी )के लिए पुलिस को लगाना पड़ा ! मतलब साला चल क्या रहा है ! कुछ भी !

BAJIGAR LOG YA BEVKUF LOG
SARABI




ऐसे और भी बाजीगर दिख जायँगे जो खुद तो संक्रमित होंगे ही आपको भी संक्रमित करेंगे ! भैया अपना तो यही कहना है ! आप खुद की सुरक्षा खुद करे ! किसी और की लापरवाही का नतीजा आपको ना भुगतना पड़े !

#WHAT IS CORONA VIRUS #CORONA WIKI #CORONAVIRUSINDIA #CORONAVIRUS NEWS #CORONA MAP

ये भी पढ़िए :MIDDLE CLASS UA MAJBUR CLASS




FOR VIDEO:

Wednesday, 20 May 2020

Break up खामोश... सन्नाटा.... | DARD ..

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...

BREAK UP SHAYARI

"Break up"ke Baad fir se pyar karne se darna yaha aap logo ke liye isi trh ki bhut si shayariya lekar aaya hu jinhe aap psnd krege or share bi krege. isi trh ki or shayari pdne ke liye niche diye gye link par click kre.

1.इन खमोश सन्नाटो में ये शोर कैसा है!
तकलीफों के इन बादलों में खुशियों का उजाला कैसा है!
दिल में उठ रहा फिर से तूफान है!
                                            break up shayari

IN KHAMOSH SANNATO ME YE SOR KESA HAI!
TAKLIFO KE IN BAADLO ME KHUSIYO KA UJALA KESA HAI!
BHRM HAI MERA YA KISMAT MEHRBAN HAI,
DIL ME UTH RHA FIR SE TUFAN HAI !


मुर्दे अक्सर खामोश रहते है !


break up shayari

KOUN KHTA HAI ME JINDA HUN!
MURDE AKSAR KHAMOSH RHTE HAI !

आज तेरी नजरे पीला रही है !


MAIN PITA THA JAAM GILASO SE,
AAJ TERI NAJRE PILA RHI HAI !

YE BHI PADIYE :CORONA PAR PYAR BHARI







#BREAKUP SHAYARI #BREAKUP SHAYARI IMAGES #BREAKUP SHAYARI IN HINDI FONT #BREAKUP SHAYARI ATTITUDE #BREAKUP SHAYARI FOR GIRLFRIEND #BREAKUP SHAYARI TWO LINES 

                                            video also available here

Tuesday, 19 May 2020

CORONA PAR PYAR BHARI

CORONA PAR PYAR BHARI



AAP LOGO KE LIYE CORONA KE SAMAY ME BHI CORONA PAR BHARI PYAR SHAYARI,CORONA PYAR,POSITIVE SHAYARI,LOVE SHAYRI,POSITIVE SHAYARI, ISHQ SHAYARI,SAD SHAYARI ETC. LEKAR AAYA HUN.


इक दिन इश्क़ में ऐसा काम कर जाऊंगा,
मजनू से ऊपर अपना नाम  कर जाऊंगा !

उसके होंठ सामने हैं और उसे कोरोना हैं ,
चूमा तो मर जाऊंगा ना चूमा तो मर जाऊंगा !

CORONA PAR PYAR BHARI
SHISHAK GURU YA LOVER

EK DIN ISHQ ME AISA KAM KAR JAUNGA,
MAJNU SE UPAR APNA NAM KAR JAUNGA !

USKE HOTH SAMNE HAI USE CORONA HAI,
CHUMA TO MAR JAUNGA NA CHUMA TO MAR JAUNGA!


दर्द को सीने लगाकर जी रहे है जिंदगी !

जिनकी  खातिर खुद को ही बदला बहुत,
और अब उनको भुलाकर जी रहे है जिंदगी !

थी बहुत मजबूरियॉ, दूरियाँ खुद से भी थी,
खुद से अब नजदीक आकर जी रहे है जिंदगी !

घाव से डरते रहे काँटों से सब बचते रहे,
चोट सब फूलों से खा कर जी रहे हैं जिंदगी !

CORONA PAR PYAR BHARI
KISI KI YAAD

GUNGUNAKAR MUSKARAKAR JI RHE HAI JINDAGI!
DARD KO SINE LGAKAR JI RHE HAI JINDAGI!

JINKI KHATIR KHUD KO HI BADLA BHUT,
OR AB UNKO BHULAKAR JI RHE HAI JINDAGI!

THI BHUT MJBURIYA, DURIYA KHUD SE BHI THI,
KHUD SE AB NAJDIK AAKAR JI RHE HAI JINDAGI!

GHAV SE DARTE RHE KANTO SE BACHTE RHE,
CHOT SB FULO SE KHA KR JI RHE HAI JINDAGI!

किसने कह दिया उसकी मुझको आदत नहीं रही ,
मैं मर जाऊंगा उससे मर रफाकत नहीं रही !

उस पर यकीन या, है और रहेगा उम्र भर,
 ये सितम और की उसको मुझसे इरादत नहीं रही !

तेरी जुदाई ने यूँ मक्कार बना दिया मुझको,

प्यार मोहब्बत घाटे का सौदा होता है ,
इश्क़ में ठीक ठाक अब जरूरत नहीं रही !

घर से बाहर आना छोड़ दिया उन्ने शायद,
अब धुप में पहले सी तमाजत नहीं रही !

अब अपना तमाशा खत्म हुआ " रसमन " यहाँ,
चलो चले किसी को अपनी जरूरत नहीं रही !



CORONA PAR PYAR BHARI
ISHQ JUNNON

KISNE KAH DIYA USKI MUJHKO AADATB NHI RHI,
MEN MAR JAUNGA USSE MAR RFAKAT NHI RHI!

US PAR YAKIN YA, HAI OR RHEGA UMR BHAR,
YE SITAM OR KI USKO MUJHSE IRADAT NHI RHI!

TERI JUDAYI NE YU MAKKAR BNA DIYA MUJHKO,
MERE DOSTO ME BHI MERI IJJAT NHI RHI!

PYAR MOHHABAT GHATE KA SODA HOTA HAI,
ISHQ ME THIK THAK AB JRURAT NHI RHI !

GHAR SE BHAR AANA CHOD DIYA UNNE SHYAD,
AB DHUP ME PHLE SI TAMKAT NHI RHI!

AB APNA TAMASHA KHTAM HUA "RASMAN" YAHA,
CHALO CHLE KISI KO APNI JRURAT NHI RHI !



गुम रहता है और झगड़ता एक दीवाना ,
हम तनहा और पीछे पड़ता एक दीवाना !

तस्वीरों से घण्टो तक करता है बातें ,
बिन गलती फिर नक् रगड़ता एक दीवाना !

हिम्मत कर यादों  से हम निकले जो बाहर,
राह रोंकता , पैर पकड़ता एक दीवाना !

हम घायल है प्यार और जज्बातों से,
पलकों पर बढ़री सा उमड़ता एक दीवाना !

जिम्मेदारी, याद और गुजरी बाते,
हाँ खुदकी साँसों  से लड़ता एक दीवाना !

CORONA PAR PYAR BHARI
LATEST MEMES

GUM RHTA HAI OR JGHADTA EK DEEWANA,
HAM TNHA OR PICHE PADTA EK DEEWANA!

TASVIRO SE GHNTE TAK KARTA HAI BAATE,
BIN GALTI FIR NAK RGDTA EK DEEWANA!

HIMMAT KAR YAADO SE HM NIKLE JO BAHAR,
RAH RONKTA,PER PKDTA EK DEEWANA!

HAM GHAYAL HAI PYAR OR JAJBBATO SE,
PALKO PAR BDRI SA UMDTA EK DEEWANA!

JIMEDARI, YAAD, OR GUJRI BAATE,
HAN KHUDKI SANSO SE LDTA EK DEEWANA!


FOR VIDEO : HAI FIR KU AAKHO ME NAMI KU ME ROTA HU AAJ BHI



Saturday, 16 May 2020

MAJDUR YA MAJBUR...MIDDLE CLASS YA MJBUR CLASS....PRWASI BHARTIYE YA CORONA SPREADER

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...
 
मजदूर या मजबूर वैसे ये हैडलाइन आपके लिए  नयी नहीं है ! पर यहाँ कुछ भाव और सच्चाई आप लोगो के सामने मेरी तरफ से भी लायी गयी है ! 

MAJDUR YA MAJBUR...

MAJDUR YA MAJBUR...MIDDLE CLASS YA MJBUR CLASS....PRWASI BHARTIYE YA CORONA SPREADER
मजदुर 

हमारे देश और पूरी दुनिया का सबसे बड़ा सच ये है की, जब भी कोई विपत्ति आती है ! तो जो मरने वाले लोग होते है ! वो देश का  सबसे कमजोर तबका होता है ! यह कमजोरी शारीरिक नहीं आर्थिक कमजोरी है ! गलती किसी की भी हो ! भुगतना इन्हे ही पड़ता है ! चाहे सरकार में किसी को अपनी बात मनवानी हो ! या विपक्षी को अपनी बात मनवानी हो सबसे पहले यही मरते है ! देश बंद कर दो शहर बंद कर दो ! कौन सोचता है इनके बारे में!
 ये रोज मजदूरी करते है साहब तब जाके इनके घर में रात का चूल्हा जलता है ! पर इससे  हमे  क्या? हमें  तो हमारी बात मनवानी है ! कोई भूखा सोये तो सोये ! 

 कभी सोचा है जब भी भारत बंद जैसी ि स्थति लागु होती है तो सबसे पहले भूख का संकट किन पर  आता है ?लेकिन इससे हमे क्या? हम तो बस ऊपर बैठकर निर्णय ले लेते है !

इस महामारी के समय देश बंधी का निर्णय लिया ! पूरी दुनिया ने वाह वाही करी हमारे देश का नाम हुआ बहुत अच्छी बात है ! पर आपको इतनी सी बात नहीं पता थी ! की इस निर्णय से पहले जो रोज कमाकर खाने वाले है ,उन पर क्या असर होगा जबकि ऐसी आबादी हमारे देश की सबसे बड़ी आबादी है ! आप कुछ दिनों बाद आकर माफ़ी माँग लेते हो ! पर इससे आपकी गलती छुप जायगी क्या ?आपकी गलती का खामियाजा आप भुगते तो समझ आता है ! पर आपकी गलती का भुगतान  कौन कर रहा है ! इतनी दिल दहलाने वाली तस्वीरें सामने आ रही है ! LOCKDOWN अच्छा निर्णय था करना चाइये था ! पर उससे पहले ये आस्वाशन  देते की आपके भोजन की व्यवस्था सरकार करेंगी तो इस तरह की भयावक स्ठिती नहीं होती !  चलो एक बार आपसे गलती हुई ! फिर उसे
सुधारने में इतना समय लगा दिया की आज पूरा देश कोरोना बारूद के उस ढेर पे बैठा है ! जो कभी भी फट सकता है !

PRWASI BHARTIYE YA CORONA SPREADER 

MAJDUR YA MAJBUR...MIDDLE CLASS YA MJBUR CLASS....PRWASI BHARTIYE YA CORONA SPREADER
प्रवासी भारतीय 

 हम विदेशो से लोगो को ला सकते है ! पर मजदूरों को घर नहीं पहुंचा सकते ! वो प्रवासी भारतीय जो न सिर्फं कोरोना देश में लाये बल्कि उस कोरोना को सबमे फैलाया भी ! मुझे किसी  प्रवासी भारतीय से शिकायत नहीं है ! सिवाए उनके जिन्होंने सरकार के द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों को नहीं माना ! अगर मानते तो आपकी गलती का नतीजा पूरा देश नहीं भुगत रहा होता ! 


ये भी पढ़िए :CORONA(COVID19) YA ZOMBIES


MIDDLE CLASS YA MJBUR CLASS.

MAJDUR YA MAJBUR...MIDDLE CLASS YA MJBUR CLASS....PRWASI BHARTIYE YA CORONA SPREADER
मिडिल क्लास 


आपकी गलती सरकार की गलती ! भुगतेगा कौन अभी मजदुर भुगत रहे है और जल्दी ही पूरा मिडिल क्लास भुगतेगा और उनकी स्ठिती सबसे भयावक होगी ! वो मजबूरी में शर्म में ना किसी के सामने हाथ फेलायगे और सरकार जो रोज सरचार्ज के नाम पे स्टाम्प ड्यूटी, पेट्रोल सरचार्ज जैसे टैक्स बढ़ायेगे वो भी अदा करेंगे ! और जब कुछ नहीं कर पायेंगे तो कितने लोग आत्महत्या करेंगे ! इसका अंदाजा कोई सरकार नहीं लगा  सकती ! सरकार २० लाख करोड़  पैकेज लेके आयी अच्छा निर्णय है ! और भविष्य में सही तरह से लागु होने  पर अच्छे परिणाम भी आयंगे ! पर वर्तमान का क्या ?भविष्य के लिए वर्तमान में जिन्दा रहना भी आवश्यक है ! उसकी तरफ भी ध्यान देना  चाहिए था !

सबकी अपनी अपनी मजबूरी है ! पर अब सबके लिए यहीं  सन्देश है देश आपके लिए क्या करेगा ये सोचना छोड़ कर अब खुद हमे इस समस्या का सामना करना है !  कोरोना से तो जीत जायँगे कहि भूख से जंग न हार जाये !
और अच्छे भविष्य की कामना के साथ इसी तरह के और आर्टिकल लाऊँगा !

 

#MJDUR #MJBUR #MIDDLE CLASS #MJBUR MIDDLE CLASS #CORONA SPREADER #DARD #DAR #JINDAGI #DESH #SARKAR #JITEGE


ये भी पढ़िए :MAHAMARI CORONA

FOR VIDEO : 

Monday, 11 May 2020

बस अब सोना चाहता हूं! | har shayari -by Deepak bansal

बस अब सोना चाहता हूं! 

HAR SHAYARI


Shayar ki Kalam se dil ke Arman...

YAHA AAP LOGO KE LIYE MAIN THAK CHUKA HUN SHAYARI, THAK CHUKA HU QUOTES, HAR SHAYARI,HAAR SHAYARI,SAD SHAYARI,STTITUDE SHAYARI,DOSTI SHAYARI ETC. SHAYARI LEKE AAYA HU!

ग़ज़ल/gazal-

---------

---------
मेरा तो इक पल से ज़्यादा हक़ नहीं मुझ पर ख़ुदा,
मैं फ़क़त तेरी रज़ा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
जिससे मैं परहेज़ ही करता रहा हूँ उम्र भर,
अब उसी कड़वी दवा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
पा के मंजिल यूँ लगा के फिर सिफ़र पे आ गया,
---------
उनके मिलने को ही मैंने कह दिया मिलना ख़ुदा,
और उनकी हर अदा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
क़ैस ओ फ़रहाद, मोमिन और अब मैं भी क़फ़स,
इश्क़ वाली उस वबा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
----------

©रोहिताश"क़फ़स"
ROHITAASH RATHORE


MERA TO EK PAL SE JYADA HAK NHI MUJH PAR KHUDA,
MAIN FAKAT TERI RJA  KO KH RHA HUN JINDAGI!

JISSE ME PARHEJ HI KARTA RHA HUN UMR BHAR,
AB USI KADWI DWA KO KAH RHA HUN JINDAGI!

PA KE MANJIL YUH LGA KE FIR SIFAR PE AA GYA,
MAIN SAFAR KI HI SADA KO KAH RHA HU JINDAGI!

UNKE MILNE KO HI MENE KH DIYA MILNA KHUDA,
OR UNKI HAR ADA KO KAH RHA HUN JINDAGI!

KESE OO FARHAD,MOMIN OR AB ME BHI KAFAS,
ISHQ WALI US WBA KO KAH RHA HUN JINDAGI!




YE BHI PADIYE :SHISHAK, GURU YA LOVER




 थक गया हूं जिंदगी की भागम भाग से,बस अब सोना चाहता हूं!


थक चुका हूं दिखावटी हंसी हंस कर, बस अब जी भर कर रोना चाहता हूं!

बस अब थक चुका हूं जिंदगी की भागम भाग से,बस अब सोना चाहता हूं!

बस अब सोना चाहता हूं!
बस अब सोना चाहता हूं!
BHUKH

THAK GYA HUN JINDAGI KI BHAGAM BHAG SE,BAS AB SONA CHAHTA HUN!

MOUT HI AA JAYE TO OR BAAT HAI, BAS AB JINA CHAHTA HUN!


BAS AB THAK CHUKA HUN JINDAGI KI BHAGAM BHAG SE, BAS AB SONA CHAHTA HUN!

             
               



#tera hi bas hona chahu #khuda ko dikh rha hoga #aasu meri palko pe yuhi na aaya hoga #tujhe hi bs pana chau

FOR VIDEO : TERA HI BAS HONA CHAHU


Friday, 8 May 2020

शिक्षक, गुरु या लवर

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...


   

                                                  शिक्षक, गुरु या  लवर 



इस हैडिंग को पढ़ने  के बाद आप लोगो के मन में आक्रोश तो पैदा हुआ ही होगा ! और जब भी में कभी इस तरह के आर्टिकल डालता हूँ ! लोगो के सवाल आते है ! जिनका जवाब पाकर उन्हें भी मेरे आर्टिकल की सच्चाई समझ आ जाती है!
एक समय होता जब शिक्षा देने वाले गुरु कहलाते थे ! क्योकि वह अपनी शिक्षा अपने विधार्थियो में बिना किसी भेद भाव और लालच के पूर्ण श्रद्धा के साथ पहुंचाते थे ! और विद्यार्थी  भी शिक्षा  का ग्रहण उसी ईमानदारी के साथ किया करते थे !  
फिर दौर बदला गुरु शिक्षक बन गए क्योकि अब उनकी शिक्षा का मोल लगने लग गया क्योकि उन्होंने अपने गुरु का पद त्याग के शिक्षक का पद धारण कर लिया ! महाभारत में भी गुरु द्रौणा चार्य के आखिर समय में कृष्ण  ने कहा था ! आपकी इस दुर्गति कारण आपका गुरु होना नहीं ! आपका शिक्षक होना है ! आपने अपनी शिक्षा हस्तिनापुर को बेच दी और उसका मूल्य 
लगा दिया ! यही कारण रहा आपको उस मूल्य की कीमत अधर्मियों के साथ रहकर चुकानी पड़ी ! अब आपको अपने प्राण त्याग देने चाइये !

चलो ये महाभारत काल नहीं है ! आज कल के माहौल के हिसाब से शिक्षक बनना भी ठीक है ! परन्तु शिक्षक तक रहते तब भी ठीक था ! ये आज कल किस प्रथा की तरफ अग्रसर हो गए है ! शिक्षक जहाँ उन्होंने अपने शिक्षक का लिबास भी उतार कर लवर, रोमियो जैसे लिबास पहन लिए है ! और इस मर्यादित कार्य को अपनी घिनौनी भावनाओं से कलंकित कर रहे है ! सभी शिक्षक इस तरह के नहीं है ! परन्तु जो है !आप सोचिये ! आपकी बच्चियाँ ऐसे शिक्षकों से शिक्षा ग्रहण कर रही है ! जो उनके बाल मन का गलत फायदा उठा रहे है ! बच्चियों के  साथ  शिक्षक आज कल लवर की तरह पेश आ रहे  है ! और उनके मानसिक विकास को कुंठित कर रहे है ! वो तो बच्चियाँ है ! सही गलत का उन्हें ज्ञान नहीं और ये नयी नयी किशोरावस्था उन्हें सही गलत समझने भी नहीं देती !  पर शिक्षक एक ऐसा आदरणीय पेशा जिसकी सम्पूर्ण छवि ऐसे अभद्र और कुंठित मानसिकता वाले लोगो ने धूमिल कर दी है ! जिन्हें भगवान से ऊपर दर्जा दिया जाता था ! आज उनका कोई भी विद्यार्थी उनका सम्मान  मन से नहीं करता ! या तो वो उनकी चापलूसी करता है ! ताकि उन्हें अच्छे नंबर मिल सके ! या कोई और स्वार्थ ! मैं यहाँ ऐसे किसी शिक्षक का नाम नहीं लूँगा ! परन्तु ऐसे बहुत है ! और आप भी जानते होंगे ! और तो और इस गलत कार्य को दुसरो को ऐसे बताते है जैसे वो बहुत ही अच्छा काम  कर रहे हो! हमारे कार्य में ग्लैमर है ! इतना ही ग्लैमर है तो क्या वो खुद की बच्चियों के साथ ऐसा होने देंगे ! नहीं ना ! फिर किस तरह आप अपने को सही बता सकते है ! मेरे इस लेख के बाद बहुत से शिक्षक मुझसे सवाल करेंगे!


शिक्षक, गुरु या  लवर
DARD


पर मेरी सभी  शिक्षको  और उन सभी लोगो से जो इस बारे में जानते है अनुरोध है उन्हें समझाये इस तरह का गृह्णीत काम न करे ! और अभिभावक अपने बच्चों से इस तरह की बात खुल कर करे ताकि वह आपको इस तरह के गलत कार्यो के बारे में बता पाए ! मैं किसी तरह के गलत शब्दो का प्रयोग यहाँ  नहीं कर रहा ! पर वो शिक्षक जो अपनी मर्यादा भूल चुके है ! उनके लिए मेरा यही सन्देश है ! आप भी किसी के  अभिभावक है ! ये जो आप ओरो की बच्चियों के साथ  कर रहे है आपके बच्चों के साथ भी हो सकता है !


  1. ये भी पढ़िए :CORONA (COVID 19 ) YA ZOMBIES
  2. JATIGAT RAJNITI PAR KATASH
  3. BHOOKH GARIBI STORY
  4. GARIB BACHE KI HANSHI
#STUDY # STUDYIMAGES #STUDY #EDUCATION BUSSINESS #SHIKSHA YA GLAMOUR #YOUN SHOSHAN # TEACHER OR LOVER #TEACHER OR BHASAK #GURUDRONACHARY #MAHABHARAT #KRISHNA # GYAN








Tuesday, 5 May 2020

KISI KI YAAD MAIN DUNIYA KO HAI BHULAYE HUE! GAJAL!

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...

AAP LOGO KE LIYE YHA KISI KI YAAD ME DUNIYA KO BHULAYE HUE,KISI KI YAAD ME SHAYARI, KISI KI  YAAD MAIN STATUS, KISI KI YAAD STATYE, ETC JESI SHAYARI OR GAJAL AP LOGO KO NAJAR KI GYI HAI. PDTE RHAIYE.


KISI KI YAAD MAIN DUNIYA KO HAI BHULAYE HUE! GAJAL!


-ग़ज़ल/gazal-
---------
कलम नही याँ सुख़न बिका है,
बचा के दिल को बदन बिका है।।
---------
दो चार कलियाँ जो बट गई तो,
ये कौन बोला चमन बिका है।।
---------
है वक्त का कुछ मिज़ाज उल्टा,
सुना है काफी कफ़न बिका है।।
---------
जो बिक गया है खुदा की खातिर,
हँसी खुशी में मगन बिका है।।
---------
"क़फ़स" गिराना न दाम उसके,
बड़ा वो करके जतन बिका है।।
---------
                                                                                           ©रोहिताश"क़फ़स"




KALAM NHI YA SUKHAN BIKA HAIN,
BCHA KE DIL KO BADAN BIKA HAIN!!

DO CHAR KALIYA JO BAT GAYI TO,
YE KOUN BOLA CHAMAN BIKA HAIN!!

HAIN WQT KA KUCH MIJAJ ULTA,
SUNA HAIN KAFI KAFAN BIKA HAIN

JO BIK GAYA HAIN KHUDA KI KHATIR,
HANSI KHUSI MAIN MAGAN BIKA HAIN!!

"KAFAS" GIRANA N DAAM USKE,
BADA WO KARKE JATAN BIKA HAIN!!

-ग़ज़ल/gazal-
-------
आग हम तुम में रहेगी अब सलामत इश्क़ की,
ये बिछड़ना और मिलना है अलामत इश्क़ की।।
-------
बज़्म में करता नही हूँ मैं मलामत इश्क़ की।।
-------
आरज़ू और आबरू दोनों गवाँ कर हूँ खड़ा,
पर नही मुझको कहीं भी कुछ नदामत इश्क़ की।।
-------
आदमी जो भी न समझा है सदाकत इश्क़ की।।
-------
यूँ किताबी भी नही पर इल्म सारा इश्क़ में,
लफ़्ज़ मेरे शेर बनते ये करामत इश्क़ की।।
-------
दिल मेरा टुकड़े हुआ है शख़्सियत उजड़ी "कफ़स"
भूल कर भी अब न माँगू मैं इमामत इश्क़ की।।
--------
© रोहिताश"क़फ़स"




YE BHI PADIYE : CORONA (COVID 19 ) YA ZOMBIES




KISI KI YAAD MAIN DUNIYA KO HAI BHULAYE HUE! GAJAL!
KHAMOSH SHAYARI

AAG HUM TUM ME RHEGI AB SALAMAT ISHQ KI,
YE BICHADNA OR MILNA HE ALAMAT ISHQ KI!!

AIB SUNNE HE TO AAO EK DIN TANHAI ME,
BAJAM ME KARTA NHI HUN ME MALAMAT ISHQ KI!!

AARJU OR AABRU DONO GANVA KAR HUN KHADA,
PAR NHI MUJHKO KHI BHI KUCH NADAMAT ISHQ KI!!

WO IBADAT KE LIYE DER-O-HARAM KO MUD GYA,
AADMI JO BHI NA SAMGHA HE SADAKAT ISHQ KI!!

YUH KITABI BHI NHI PAR ILAM SARA ISHQ ME,
LAFAJ MERE SHER BANTE YE KARAMAT ISHQ KI!!

DIL MERA TUKDE HUA HAIN SHKSHIYAT UJDI " KAFAS",
BHUL KAR BHI AB N MANGU MAIN IMAMAT ISHQ KI 

YE BHI PDIYE :GULJAR SHAYARI

                                      BHUKH GARIBI STORY

                                      EMOTIONAL SHAYARI

#ISHQ # MOHABBAT #SAD #MADHUSAALA #SARAB #JAHIL #IRFANKHAN #RISHIKAPOOR #DARD #EMOTIONALLY HURT

I recommend you to open a FREE trading and demat account with Edelweiss 

 Paperless, Hassle-free and quick


For any query call 09549522228





FOR VIDEO : KISI KI YAAD MAIN DUNIYA KO HAI BHULAYE HUE.