Wednesday, 8 April 2020

MUNAWAR RANA FAMOUS SHER!

Shayar ki Kalam se dil ke Arman...






munawar rana famous shayari

मुनव्वर राना शेर 


मुनव्वर राना : INTRODUCTION
DOB :26/11/1952
OCCUPATION : URDU POET
PARENTS :ANWAR RANA,AYESHA KHATOON
BOOKS :MAAN
NATIONALITY : INDIAN


मुनव्वर राना का जन्म राइ बरेली उतर प्रदेश में हुआ ! पर उन्होंने जिंदगी का सबसे ज्यादा समय कोलकाता में बिताया !उन्हें साहित्य अकादमी अवार्ड फॉर उर्दू लिटरेचर के लिए मिला ! चलिए मुनव्वर के चुनिंदा शेर आप लोगो के लिए नजर करते है !


MUNAWAR RANA FAMOUS 21 SHER!

मुनव्वर राना के प्रसिद्ध २१ शेर 


मुनव्वर राना उर्दू अदब के एक मक़बूल नाम हैं, पेश हैं उनके लिखे बेहतरीन शेर


इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए



MUNAWWAR RANA SHAYARI ON LIFE
मुनव्वर राना शायरी लाइफ पर 




1.आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए

AAP KO CAHRE SE BHI BIMAR HONA CHAIYE 


ISHQ HE TO ISHQ KA IJHAR HONA CHAIYE 


2.ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें

टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए

JINDAGI TU KB TALAK DAR-DAR FIRAYGI HME 


TUTA FUTA HI SHI GHAR-BAR HONA CHAIYE



बरसों से इस मकान में रहते हैं चंद लोग


3.बरसों से इस मकान में रहते हैं चंद लोग
इक दूसरे के साथ वफ़ा के बग़ैर भी

BARSO SE IS MAKAN ME RHTE CHND LOG


IK DUSRE KE SATH WAFA KE BAGER BHI


4.एक क़िस्से की तरह वो तो मुझे भूल गया
इक कहानी की तरह वो है मगर याद मुझे

EK KISSE KI TARAH WO TO MUJHE BHUL GAYA


EK KHANI KI TARAH WO HE MAGAR YAAD MUJHE 




ताज़ा ग़ज़ल ज़रूरी है महफ़िल के वास्ते

MUNNAWAR RANA BEST QUOTE मुनव्वर राना बेस्ट कोट 



5.भुला पाना बहुत मुश्किल है सब कुछ याद रहता है
मोहब्बत करने वाला इस लिए बरबाद रहता है

BHUL PANA BHAUT MUSKIL HE SB YAAD RHTA HE 


MOHABBAT KARNE WALA IS LIYE BARBAD RHTA HE 


6.ताज़ा ग़ज़ल ज़रूरी है महफ़िल के वास्ते
सुनता नहीं है कोई दोबारा सुनी हुई

TAJA GAJAL JARURI HE MEHFIL KE WASTE


SUNTA NHI HE KOI DUBARA SUNI HUI



जहाँ महबूब रहता है वहीं महताब रहता है



MUNNAWAR RANA SHAYARI ON MOHHBBAT
मुनव्वर राना शायरी मुहब्बत पर 



7.हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं

HM KUCH ASE TERE DIDAR ME KHO JATE HE 


JESE BACHE BHARE BAJAR ME KHO JATE HE


8.अँधेरे और उजाले की कहानी सिर्फ़ इतनी है
जहाँ महबूब रहता है वहीं महताब रहता है

ANDHARE OR UJALE KI KHANI SIRF ITNI HE 


JAHA MEHBUB RHTA HE WHI MEHTAB RHTA HE 


मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई



MUNAWAR RANA SHAYARI ON MAA
मुनव्वर राना शायरी माँ पर 



9.कभी ख़ुशी से ख़ुशी की तरफ़ नहीं देखा
तुम्हारे बाद किसी की तरफ़ नहीं देखा

KBHI KHUSI SE KHUSI KI TARAF NHI DEKHA 


TUMHARE BAAD KISI KI TRAF NHI DEKHA 


10.किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई

मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई

KISI KO GHAR MILA HISSE ME YA KOI DUKA AAI


ME GHAR ME SBSE CHOTA THA MERE HISSE ME MA AAI


किसी भी सीने को खोलो तो ग़म निकलते हैं

MUNNWAR RANA SAD SHAYARIमुनव्वर राना सैड शायरी 




11.मैं इस से पहले कि बिखरूँ इधर उधर हो जाऊँ
मुझे सँभाल ले मुमकिन है दर-ब-दर हो जाऊँ

ME IS SE PHLE KI BIKHRU IDHAR UDHAR HO JAU


MUJHE SAMBHAL LE MUMKIN HE DAR B DAR HO JAU


12.मसर्रतों के ख़ज़ाने ही कम निकलते हैं
किसी भी सीने को खोलो तो ग़म निकलते हैं


MUSRATO KE KHAJNE HI KAM NIKALTE HE


KISI BHI SINE KO KHOLO TO GAM NIKALTE HE




मिट्टी में मिला दे कि जुदा हो नहीं सकता




13.मिट्टी में मिला दे कि जुदा हो नहीं सकता
अब इस से ज़यादा मैं तेरा हो नहीं सकता

MITTI ME MILA DE KI JUDA HO NHI SKTA 


AB ISSE JYDA ME TERA HO NHI SKTA


14.मुख़्तसर होते हुए भी ज़िंदगी बढ़ जाएगी
माँ की आँखें चूम लीजे रौशनी बढ़ जाएगी

MUKTSAR HOTE HUE BHI JINDAGI BAD JAYGI


MA KI AAKHE CHUM LIJE ROSHNI BAD JAYGI



वो बिछड़ कर भी कहाँ मुझ से जुदा होता है



मुनव्वर राना शायरी इन उर्दू
MUNWWAR RANA SHAYARI IN URDU





15.वो बिछड़ कर भी कहाँ मुझ से जुदा होता है
रेत पर ओस से इक नाम लिखा होता है

WO BICHAD KAR BHI KHA MUJHSE JUDA HOTA HE


RET PAR OS SE EK NAM LIKHA HOTA HE


16.मैं भुलाना भी नहीं चाहता इस को लेकिन
मुस्तक़िल ज़ख़्म का रहना भी बुरा होता है

ME BHULNA BHI NHI CAHHTA IS KO LEKIN


MUSTKIL JAKHAM KA RHNA BHI BURA HOTA HE



तेरे एहसास की ईंटें लगी हैं इस इमारत में



17.तेरे एहसास की ईंटें लगी हैं इस इमारत में
हमारा घर तेरे घर से कभी ऊँचा नहीं होगा

TERE EHSAS KI INT LGI HE IS IMARAT ME 


HAMARA GHAR TERE GHAR SE KBHI UNCHA NHI HOGA


18.ये हिज्र का रस्ता है ढलानें नहीं होतीं
सहरा में चराग़ों की दुकानें नहीं होतीं

YE HIJR KA RASTA HE DHLANE NHI HOTI


SHRA ME CHRAGO KI DUKANE NHI HOTI


तुम आ गए तो वक़्त ठिकाने से कट गया



MUNWWAR RANA 2 LINE SHAYARI
मुनव्वर राना शायरी इन २ लाइन्स 



19.ये सर-बुलंद होते ही शाने से कट गया
मैं मोहतरम हुआ तो ज़माने से कट गया

YE SAR-BULAND HOTE HI SHAN SE KAT GYA


ME MOHTARM HUA TO JAMANE SE KAT GYA


20.उस पेड़ से किसी को शिकायत न थी मगर
ये पेड़ सिर्फ़ बीच में आने से कट गया

US PEDH SE KISI KO SHIKYAT NA THI MAGAR


YE PEDH SIRF BITCH ME AANE SE KAT GYA 


21.वर्ना वही उजाड़ हवेली सी ज़िंदगी
तुम आ गए तो वक़्त ठिकाने से कट गया

WRNA WHI UJAD HAWELI SI JINDAGI


TUM AA GYE TO WQT THIKANE SE KAT GYA






  1. ये भी पढ़िए :DIL SHAYARI
  2. LOVE SHAYARI
  3. DARD SHAYARI
  4. FILHAAL SHAYARI
  5. RAHAT INDORI SHAYARI



#munnwar rana shayari in hind #mohhbat #ishq #dard #love #pyar #ijhar #aansu #maa #jaan #premika 
FOR VIDEO :  MOHABBAT SHAYARI

No comments:

Post a comment