Saturday, 18 April 2020

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULZAR!NAJM !GAJAL


Shayar ki Kalam se dil ke Arman...


SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!
GULZAR SAHAB KI BEHTRIN SHAYARI

INTRODUCTION

BRON : 18/08/1934

FULL NAME : SAMPOORAN SINGH KALRA


PLACE : PRESENT PUNJAB (PAKISTAN) BRITISH INDIA

SPOUSE : RAAKHEE

PARENTS : MAKHAN SINGH KALRA, SUJAN KAUR 

बहुत से लोगो को लगता है  गुलजार एक मुस्लिम नाम है परन्तु गुलजार का जन्म एक सिख परिवार में हुआ था !
गुलजार साहब जैसा उम्दा शायर जो हर शेर में जिंदगी की किताब खोल दे ऐसे मकबूल शायर हमारे सामने आज मौजूद है ! ये हम लोगो का सौभाग्य है !

GULZAR KE FAMOUS SHER, GULZAR SHAYARI ON YADDEIN, SHYARI ON MOHABBAT BU GULZAR ,GULZAR SAHAB SHAYARI,  GULJAR SHAYARI BOOK , GULZAR SHAYARI IMAGES, GULZAR SHAYARI ON EYES, GULZAR SHAYARI QUOTES HINDI, GULZAR THOUGHTS ETC. YAHA AAPKO PDNE KO MILEGEI .

GULZAR SHAYARI ON JINDGAIगुलज़ार शायरी जिंदगी पर 



SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!



तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं


___Gulzar Sahab





3.सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


4.मैं दिया हूँमेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


5.बहुत अंदर तक जला देती हैं,


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


6.एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं

___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

GULZAR SHAYARI ON MOHABBAT
गुलजार शायरी मोहब्बत पर 


7.तकलीफ़ ख़ुद की कम हो गयी,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गईं


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


8.घर में अपनों से उतना ही रूठो
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके


___Gulzar Sahab


YE BHI PDIYE :  MUNAWWAR RANA


SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


9.कौन कहता हैं कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ के देखियें


___Gulzar Sahab


SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

GULZAR SHAYARI ON YAADEIN
गुलजार शायरी यादो पर 


10.तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

11.कभी तो चौक के देखे वो हमारी तरफ़,
किसी की आँखों में हमको भी वो इंतजार दिखे


___Gulzar Sahab



12.कैसे करें हम ख़ुद को
तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं,
तो तुम शर्ते बदल देते हो


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


13.तन्हाई की दीवारों पर
घुटन का पर्दा झूल रहा हैं,
बेबसी की छत के नीचे,
कोई किसी को भूल रहा हैं


___Gulzar Sahab

YE BHI PDIYE : MIRZA GHALIB


SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

GULJAR SHAYARI ON LOVE
 गुलजार शायरी लव पर 


14.शोर की तो उम्र होती हैं
ख़ामोशी तो सदाबहार होती हैं


___Gulzar Sahab



वक्त की शाख से लम्हें नहीं तोडा करते


___Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!




16.तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे


___Gulzar Sahab


क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है
तुम्हारा क्या तुम्हें तो राहे दे देते हैं काँटे भी ,
मगर हम खांकसारों को बड़ी तकलीफ़ होती है



__Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

GULZAR POETRY
गुलजार कविता 


18.देखो, आहिस्ता चलो, और भी आहिस्ता ज़रा
देखना, सोच-सँभल कर ज़रा पाँव रखना,
ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं.
काँच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में,
ख़्वाब टूटे न कोई, जाग न जाये देखो,
जाग जायेगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा


__Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


19.शब्द नए चुनकर कविता हर बार लिखू
उन दो आँखों में अपना सारा प्यार लिखू
वो में विरह की वेदना लिखू या मिलन की झंकार लिखू
कैसे इन चंद लफ्जो में दोस्तों अपना सारा प्यार लिखू

__Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


20.ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं
ना पास रहने से जुड़ जाते हैं
यह तो एहसास के पक्के धागे हैं
जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं



__Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


21.एक सो सोलह चाँद की रातें
एक तुम्हारे कंधे का तिल
गीली मेहँदी की खुश्बू
झूठ मूठ के वादे
सब याद करादो, सब भिजवा दो
मेरा वो सामान लौटा दो



__Gulzar Sahab

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!

SHAYARI ON MOHABBAT BY GULJAR!


  1. YE BHI PDIYEBHUKH GARIBI STORY
  2. EMOTIONAL SHAYARI
  3. SHAYARI FOR GIRLFRIEND
#GULZARNAJM #GULAZARGAJAL #GULZARSHER #GULZARSHAYRI

    FOR  VIDEO : GULZAR SAHAB BEST NAJM



    No comments:

    Post a comment