Monday, 11 May 2020

बस अब सोना चाहता हूं! | har shayari -by Deepak bansal

बस अब सोना चाहता हूं! 

HAR SHAYARI


Shayar ki Kalam se dil ke Arman...

YAHA AAP LOGO KE LIYE MAIN THAK CHUKA HUN SHAYARI, THAK CHUKA HU QUOTES, HAR SHAYARI,HAAR SHAYARI,SAD SHAYARI,STTITUDE SHAYARI,DOSTI SHAYARI ETC. SHAYARI LEKE AAYA HU!

ग़ज़ल/gazal-

---------

---------
मेरा तो इक पल से ज़्यादा हक़ नहीं मुझ पर ख़ुदा,
मैं फ़क़त तेरी रज़ा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
जिससे मैं परहेज़ ही करता रहा हूँ उम्र भर,
अब उसी कड़वी दवा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
पा के मंजिल यूँ लगा के फिर सिफ़र पे आ गया,
---------
उनके मिलने को ही मैंने कह दिया मिलना ख़ुदा,
और उनकी हर अदा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
---------
क़ैस ओ फ़रहाद, मोमिन और अब मैं भी क़फ़स,
इश्क़ वाली उस वबा को कह रहा हूँ ज़िन्दगी।
----------

©रोहिताश"क़फ़स"
ROHITAASH RATHORE


MERA TO EK PAL SE JYADA HAK NHI MUJH PAR KHUDA,
MAIN FAKAT TERI RJA  KO KH RHA HUN JINDAGI!

JISSE ME PARHEJ HI KARTA RHA HUN UMR BHAR,
AB USI KADWI DWA KO KAH RHA HUN JINDAGI!

PA KE MANJIL YUH LGA KE FIR SIFAR PE AA GYA,
MAIN SAFAR KI HI SADA KO KAH RHA HU JINDAGI!

UNKE MILNE KO HI MENE KH DIYA MILNA KHUDA,
OR UNKI HAR ADA KO KAH RHA HUN JINDAGI!

KESE OO FARHAD,MOMIN OR AB ME BHI KAFAS,
ISHQ WALI US WBA KO KAH RHA HUN JINDAGI!




YE BHI PADIYE :SHISHAK, GURU YA LOVER




 थक गया हूं जिंदगी की भागम भाग से,बस अब सोना चाहता हूं!


थक चुका हूं दिखावटी हंसी हंस कर, बस अब जी भर कर रोना चाहता हूं!

बस अब थक चुका हूं जिंदगी की भागम भाग से,बस अब सोना चाहता हूं!

बस अब सोना चाहता हूं!
बस अब सोना चाहता हूं!
BHUKH

THAK GYA HUN JINDAGI KI BHAGAM BHAG SE,BAS AB SONA CHAHTA HUN!

MOUT HI AA JAYE TO OR BAAT HAI, BAS AB JINA CHAHTA HUN!


BAS AB THAK CHUKA HUN JINDAGI KI BHAGAM BHAG SE, BAS AB SONA CHAHTA HUN!

             
               



#tera hi bas hona chahu #khuda ko dikh rha hoga #aasu meri palko pe yuhi na aaya hoga #tujhe hi bs pana chau

FOR VIDEO : TERA HI BAS HONA CHAHU


1 comment: